हेमिस त्यौहार क्या है? Hemis Festival in Hindi

0
456

हैलो दोस्तों कैसे है आप सभी लोग ? मेरी ऐसी उम्मीद है की आप सब लोग अच्छे होंगे। आज हम बात करेगे हेमिस त्यौहार (Hemis Festival in Hindi / hemis tsechu festival in hindi) के बारे मे। इस ब्लॉग में हम हेमिस त्यौहार क्या है, कब, कैसे और क्यों मनाया जाता हैं , इस पर विस्तार में चर्चा करेंगे।

हेमिस त्यौहार क्या हैं?

हमारा देश भारत त्यौहारों और संस्कृति का देश है। यहां हर धर्म के त्यौहार को बड़े ही उत्साह के साथ मनाए जाता हैं। ऐसा ही एक त्यौहार हेमिस फेस्टिवल के रूप में लद्दाख मे प्रसिद्ध है। हेमिस त्यौहार बहुत लोकप्रिय और अद्वितीय है। लद्दाख में हेमिस फेस्टिवल मनाया जाता है। हेमिस गोम्पा में लद्दाख के सबसे बड़े मठ में हेमिस फेस्टिवल आयोजित किया जाता है।

हेमिस गोम्पा एक बहुत ही अनूठी जगह है। यह पहाड़ की चट्टानों से घिरा हुआ है। यह त्यौहार मुख्य रूप से उन्हें संत पद्म्संभवा के जन्मदिन पर सम्मान देने के लिए मनाया जाता है।

हेमिस त्यौहार Hemis Festival in Hindi 2021

हेमिस गोम्पा त्यौहार कहाँ मनाया जाता है?

हेमिस महोत्सव अपने पांचवें महीने में मनाया जाता है, हर साल हेमिस मठ के परिसर में लेह से लगभग 45 किलोमीटर दूर यह मनाया जाता है।  हेमिस त्यौहार 2021 मे 20 जून (रविवार) व 21 जून (सोमवार) को मनाया जाएगा। यह त्यौहार भगवान पद्म संभव (गुरु रिटामोच) के याद मे मनाया जाता है। केवल इतना ही है कि उनका जीवन सिर्फ एक ही लक्ष्य था, जिससे लोगों को आध्यात्मिकता में जोड़ना था। यहां सबसे बड़ी थींगंका की तस्वीर है जो आम लोगों के लिए 12 साल में एक बार प्रदर्शित की जाती है।

संत पद्म्संभवापरिचय

संत पद्मसम्बावा एक बहुत प्रसिद्ध बोद्ध धर्म (Buddha Religion) व्याख्याता थे। ऐसा कहा जाता है कि महात्मा बुद्ध के बाद यह दूसरे बड़े गुरु थे। यह तिब्बत में तांत्रिक बौद्ध धर्म के संस्थापक भी थे। उन्होंने विशेष रूप से बौद्ध धर्म के प्रचार-प्रसार में मुख्य भूमिका निभाई। वे मुख्य रूप से तिब्बत और भूटान में बौद्ध धर्म को प्रचारित करने के लिए जाने जाते हैं। यह एक बहुत बड़ा विद्वान और शुद्ध थे।

हेमिस त्यौहार कब मनाया जाता हैं? (Hemis Festival 2021 in hindi)

हेमिस फेस्टिवल मुख्य रूप से जून या जुलाई के महीने में  मनाया जाता है। यह 2 दिनों के लिए चलता है। 2021 जून (रविवार) और 21 जून (सोमवार) को हेमिस फेस्टिवल मनाया जाएगा। इस त्यौहार में शामिल होने के लिए, लोग दूर-दूर से आते हैं, यह वास्तव में लद्दाख के ‘कुंभ’ की तरह है।

हेमिस का इतिहास

हेमिस गणित 11 वीं शताब्दी पहले अस्तित्व में रहा, 1962 में, शासक सेंग्गे नंग्याल ने अपने शासनकाल के दौरान हेमिस मठ का पुनर्निर्माण किया था। यह लद्दाख में है और हमेशा अपनी सुंदरता के लिए चर्चा में रहता है।

हेमिस फेस्टिवल को दो हिस्सों में बांटा गया है – जिसमें एक दाई ओर असेंबली हॉल और दूसरा बाई ओर एक मुख्य मंदिर स्थापित किया गया है। यह मंदिर ‘Tsogkhang’ के रूप में भी प्रसिद्ध है।

लद्दाख के निवासियों का मानना है कि हेमिस त्यौहार उनके स्वास्थ्य और शांति को बढ़ावा देता है। यह त्यौहार उनके विश्वास का प्रतीक है। यह बहुत मनाया जाता है। एक पॉप पर गद्दे रखने और इसमें रंगीन तालिका रखकर सभी पूजा और प्यार का जश्न मानते है।

हेमिस महोत्सव मनाते हुए, लोग अच्छे स्वास्थ्य और शांति के लिए भगवान से प्रार्थना करते हैं।

हेमिस त्यौहार की कुछ विशेषता | Importance Of Hemis Festival 2021

हेमिस त्यौहार/उत्सव  सच मे अपने आप मे ही बहुत विशेष त्यौहार है। तो चलिए जानते है हेमिस त्यौहार की कुछ विशेषता

मुखौटा नृत्य

हेमिस फेस्टिवल अपने आप में खुशी और उत्तेजना से भरा त्यौहार है। इस त्यौहार की आयोजन में, लोग रंगीन कपड़े पहनकर और मास्क लगा कर नृत्य करते हैं तथा अपनी कला प्रदर्शनी करते है। यह सुन के ही इतना मजा या रहा है तो जरा सोचिया की वह रह के कितना मजा आएगा।

कला प्रदर्शनी का विस्तार

हेमिस फेस्टिवल के माध्यम से हस्तशिल्प और अन्य कला प्रदर्शनी का विस्तार होता रहे ताकि हम हमेशा हमारी संस्कृति से जुड़े हुए रहे और इसके महत्व को कभी न भूलें।

शुभकामनाओं का प्रतीक

हेमिस फेस्टिवल को अच्छे भाग्य का प्रतीक माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस त्यौहार में जो भी शामिल होते है वो अच्छे भाग्य, अच्छे स्वास्थ्य और शांतिपूर्ण जीवन का आशीर्वाद मिलता है। इस त्यौहार का आनंद लेने के लिए लोग दूर-दूर से आते है।

  1.  हेमिस त्यौहार कहां मनाया जाता है?

    लद्दाख के हेमिस मठ में  हेमिस त्यौहार मनाया जाता है

  2.  हेमिस त्यौहार 2021 में कब मनाया जाएगा?

     हेमिस त्यौहार 2021 में 20 जून (रविवार) व 21 जून (सोमवार) को मनाया जाएगा

  3. हेमिस त्योहार किस धर्म से जुड़ा है?

    हेमिस त्योहार बोद्ध धर्म से जुड़ा है।

  4. हेमिस त्यौहार क्यों मनाया जाता है?

    संत पद्म्संभवा के जन्मदिन पर उन्हें सम्मान देने के लिए मनाया जाता है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here