यास तूफान क्या है, असर, रफ्तार | Yaas Cyclone in Hindi, Speed, Path

0
213

यास तूफान क्या है, मतलब, अर्थ, मीनिंग, गति, स्पीड, नामकरण, असर [Yaas Cyclone in Hindi] (Speed, Path, Update, Track Map, Named by Which Country)

प्रकृति हमसे क्या चाहती है कोई नहीं जानता, साल 2021 की शुरुआत से ही हमारा देश प्राकृतिक आपदाओं से घिरा हुआ है।

अभी कुछ दिन पहले ही, हमने टाउट तूफान के बारे में सुना था और हम उस तूफान से हुए नुकसान के बारे में भी जानते हैं। हाल ही में मौसम विभाग ने हमें एक और तूफान की चेतावनी दी है।

यास तूफान को लेकर कई चर्च भी चल रहे हैं और अंदाजा लगाया जा रहा है कि यह तूफान देश के करीब 7 राज्यों से भी गुजरेगा।

हमें भी इस तूफान से सावधान रहने की जरूरत है। यह क्या है और इसे कहाँ से उठाया गया है, आप हमारे इस लेख में सब कुछ अध्ययन कर सकते हैं।

यास तूफ़ान क्या है, असर, रफ्तार | Yaas Cyclone in Hindi, Speed, Path

यास तूफान क्या है

बंगाल की खाड़ी से उठने वाले तूफान का नाम यास है। जो भारत देश के कुछ राज्यों से होकर गुजरेगा यानी बंगाल की खाड़ी से उठा यह तूफान देश के 7 राज्यों में अपना असर दिखाएगा। यास का यह तूफान पूर्वी तटों पर कहर बरपा सकता है।

इस समय भारत के पश्चिमी हिस्से में एक चक्रवात आया था, यह भी उसी तरह का चक्रवात है। पश्चिमी तटों पर आए इस चक्रवात के कारण महाराष्ट्र, गुजरात, केरल, कर्नाटक और गोवा आदि कई राज्यों ने भारी तबाही मचाई थी, जो बेहद डरावना भी था.

हाल ही में मौसम विभाग ने चेतावनी जारी की थी कि तूफान के बाद बंगाल की खाड़ी से एक और नया चक्रवात आ रहा है। यह तूफान 24 मई से शुरू होगा। लेकिन यह तूफान 26 मई को भारत के पूर्वी छोर से टकराएगा।

यास तूफान नामकरण (Named By Country)

ओमान देश ने बंगाल की खाड़ी से निकलने वाले इस तूफान का नाम रखा है। यास एक ओमानी शब्द है जिसका अर्थ होता है उदासी।

इस तूफान का नाम रखने का श्रेय ओमान को जाता है। इस तूफान के शांत होने के बाद एक और नए तूफान का नाम भी आने की उम्मीद है, जिसका नाम पाकिस्तान ने रखा है, जिसे गुलाब के नाम से जाना जा सकता है.

यास तूफ़ान असर कहां होगा (Path)

बंगाल की खाड़ी से उठ रहा यह यास तूफान भारत के अन्य राज्यों में कहर बरपाएगा, जो पूर्वी ओडिशा के करीब 7 जिलों में हो रहा है।

हालांकि यह भी कहा जा रहा है कि इस तूफान से ज्यादा नुकसान नहीं होगा। यास तूफान का असर सबसे पहले ओडिशा और पश्चिम बंगाल में देखने को मिलेगा। वहीं, इस तूफान का असर तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश राज्यों के साथ-साथ अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में भी देखने को मिलेगा।

इन राज्यों के अलावा ये तूफान झारखंड और केरल के तटीय इलाकों के कुछ हिस्सों पर भी अपना असर दिखा सकता है.

यास तूफ़ान कब आयेगा

भारतीय मौसम विभाग के अनुसार, 24 मई को बंगाल की खाड़ी से तूफान शुरू होगा, जिसके बाद तूफान वहां से 26 मई को ओडिशा राज्य के पूर्वी छोर पर पहुंचेगा।

इसके बाद तूफान भी अपना असर दिखाएगा। 26 मई को अंडमान और निकोबार द्वीप समूह पर। फिर यह तूफान मेघालय और असम राज्यों तक जाएगा। हिमालय में यह टक्कर उत्तरी राज्यों पर भी अपना असर दिखा सकती है।

यास तूफान रफ्तार (Yaas Cyclone Speed)

एक रिपोर्ट के मुताबिक, यास तूफान के 170 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से पूर्वी तट से टकराने की संभावना है। इस तूफान में हवा की गति 90 से 120 किलोमीटर प्रति घंटे तक हो सकती है।

यास तूफान का असर (Effect)

अगर यह तूफान इसी रफ्तार से पूर्वी तट से टकराता है तो भारी बारिश की संभावना है। इस तूफान के कारण पूर्वी राज्यों में 150 से 200 सेंटीमीटर तक बारिश हो सकती है। मौसम विभाग ने इस तूफान से 26 और 27 तारीख को भारी बारिश की संभावना जताई है।

मौसम विभाग के मुताबिक इस तूफान में भारत के पूर्वी राज्यों में बारिश और तेज हवाओं का असर देखने को मिलेगा. मौसम विभाग ने इस तूफान से खुद को बचाने की सलाह दी है।

मौसम विभाग के मुताबिक शुरुआत में यह तूफान इतना खतरनाक नहीं है, लेकिन जैसे-जैसे यह समय के साथ आगे बढ़ेगा इसकी रफ्तार बढ़ती जाएगी। इस तूफान की रफ्तार 120 किमी से भी ज्यादा हो सकती है। इस रफ्तार से यह तूफान ओडिशा के टाटो से टकराएगा।

यास तूफ़ान से बचाव कि तैयारी

ट्रेनों को किया गया रद्द

यस तूफान के कारण यात्रियों की सुरक्षा को देखते हुए रेलवे ने दिल्ली से पुरी और भुवनेश्वर जाने वाली सभी ट्रेनों को अगले आदेश तक रद्द कर दिया है. दिल्ली से अगले 3 से 4 दिनों तक कोई भी ट्रेन पुरी और भुवनेश्वर से नहीं निकलेगी। हालांकि इन ट्रेनों को कुछ दिनों के लिए रद्द कर दिया गया है।

एयरफोर्स बचाव के लिए तैयार है

पूर्वी तट पर तूफान के खतरे को देखते हुए एनडीआरएफ की टीमें भी तैयार हैं। वायुसेना ने एनडीआरएफ की टीमों को एयरलिफ्ट किया है। फिलहाल यह टीम बंगाल में कोलकाता के रेड जोन इलाकों और ओडिशा के भुनेश्वर में स्थित है।

अगर इस बल की जरूरत है तो यह टीम हमेशा मदद की अगली कड़ी रहेगी। एनडीआरएफ में करीब 26 हेलीकॉप्टर स्टैंडबाय मोड पर रखे गए हैं, जो हर समय किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं।

भारत के पूर्वी तटों पर एक नया तूफान शुरू हो गया है। मौसम विभाग के मुताबिक, यह तूफान बंगाल की खाड़ी से उठेगा, जो भारत के पूर्वी राज्यों में कहर बरपाएगा। लेकिन हमारे देश में इस तूफान से निपटने के लिए पूरी तैयारी कर ली गई है।

FAQs

  1. यास तूफान का नाम किसने दिया हैं ?

    Ans. ओमान राष्ट्र ने यास तूफान का नाम दिया हैं |

  2. यास तूफान की शुरुआत कब हुई ?

    Ans. 24 मई को यास तूफान की शुरुआत हुई |

  3. यास तूफान कहां से उठेगा ?

    Ans. बंगाल की खाड़ी से यास तूफान उठेगा |

  4. यास तूफान कितने राज्यों में असर दिखाएगा ?

    Ans. लगभग 7 पूर्वी राज्यों में यास तूफान का असर दिखाएगा |

  5. यास तूफान भारतीय तटों से कब टकराएगा ?

    Ans. 26 मई को संभावित यास तूफान भारतीय तटों से टकराएगा |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here